Followers

There was an error in this gadget

Labels

Tuesday, September 10, 2013


रुको तो जरा !
मैं देख तो लूँ ,
इन पीछे छूट जाने वाले अप्रतिम पलों में
क्या क्या पीछे छूट रहा है ,
तुम्हे तो बड़ी जल्दी रहती है
हमेशा से ,...
और हर बार
कुछ न कुछ छोड़ ही आते हो ,
मेरे पीछे
जिन्हें सहेजने के लिए
मुझे फिर से लौटना होता है
उन्ही पलों में, उसी जगह,
जिनमे तुम्हारी ,
कुछ बातें,कुछ यादें ,
तो कुछ तुम ही ......
बिखरे- बिखरे से रहते हो ,
जहा जाने के बाद
मेरा फिर से लौट आना
बड़ा मुश्किल सा लगता है,
इस बार मैं कोई हडबडाहट
नहीं करने वाला
और हा तुम्हे भी ऐसा कुछ नहीं
करने दूंगा
जिससे तुम मुझसे आगे निकल जाओ
और मैं वही उसी जगह
ढूंढता रहू तुम्हारे कदमो के निशान..........

अमर=====

Monday, July 8, 2013

=====अधूरी दास्ताँ =====



ये जो तुम 
बात बात पे रूठ जाते हो न,
अच्छी बात नहीं 
घर की छोटी -छोटी बातो को 
घर के बाहर तक ले जाते हो 
ये भी अच्छी बात नहीं ......
देख लेना 
एक दिन ऐसे ही दो -दिलो में 
तल्खिया बढ़ जाएँगी 
हम कितना भी चाहेंगे इन्हें दूर करना 
दरारे फिर भी रह जाएँगी ......

सुना है 
तुम तो बड़े समझदार हो 
बड़ी समझदारी की बातें करते हो 
और ये जरा सी बात तुम नहीं समझे 
जानते हो,
टूटे हुए खिलोने भी 
कभी-कभी जिंदगी भर की चोट दे जाते है 

कम से कम , 
मेरा -अपना न सही ,
घर के आँगन के बारें में तो सोचो 
उसके चीखते सन्नाटो के बारे में सोचो..... 
जो पौधे हमने मिलकर लगाये थे 
उनमे खिले फूलो की, 
मुस्कराहट के बारें में सोचो 
जो अभी ठीक से खिला ही नहीं 
उसकी पहली अल्हड मुस्कान के बारें में सोचो .......

पर, अब, शायद तुम कुछ सोचना नहीं चाहते 
तुममे अहम् आ गया है 
जिसकी वजह से 
अब तुम्हारी सोचने समझने की 
क्षमता भी जाती रही .....
तुम्हारी पल भर की जीत ने अँधा बना दिया है तुम्हे 
तुम्हे कुछ दिखाई नहीं दे रहा 
मदमस्त हो उस जीत के हर्षौल्लास में ....
और हो भी क्यूँ न 
तुमने उस जीत के लिए क्या कुछ नहीं किया 
क्या मेरा , क्या मेरे आँगन का 
सब कुछ तो दाव पर लगा दिया तुमने 
तुम तो बस जीत जाना चाहते थे 
कैसे भी ,किसी भी कीमत पर .........
पर इतना जान लो 
कुछ रिश्ते हम नहीं बनाते
वो उपर वाले की मर्जी से बनते है 
और उन्हें तोड़ने वाला कभी खुश नहीं रह सकता .......

आज नहीं तो कल
शायद तुम्हारे अक्ल पर पड़ा अहम् का पर्दा हट जाये 
तुम बहुत कुछ सोचो 
और तुम्हे कुछ न समझ आये 
तुम कितना भी हाथ पैर पटको 
और नतीजा कुछ न आये, 
समझ लेना, तुमने कुछ तो ऐसा किया है 
जो किसी को 
जिंदगी भर के लिए 
एक दर्द भरी दास्ताँ दे गया है 

तुम चाहो की सब फिर से पलट जाये
उस वक्त बस इतना समझ लेना 
की अब बहुत देर हो गयी !!........

=====अमर=====

Saturday, April 20, 2013

"शब्दहीन संवाद"




















हा........, आज ,
बहुत दिनों के बाद ,
तुमसे बात करने को जी चाहा
तो सोचा पूछ लू तुमसे, की ,
तुम कैसे हो, 
कुछ याद भी है तुम्हे
या सब भूल गए -----
वैसे,
तुम्हारी बातें मुझे


भूलती नहीं,
नहीं भूलते मुझे तुम्हारे वो अहसास
जो कभी सिर्फ मेरे लिये थे
नहीं भूलते तुम्हारे "वो शब्द"
जो कभी तुमने मेरे लिए गढ़े थे ----

तुम्हे जानकार आश्चर्य होगा
पर ये भी उतना ही सत्य है
जितना की तुम्हारा प्रेम,
की ,
"अब शब्द भी बूढ़े होने लगे है"
उनमे भी अब अहम आ गया है
तभी तो,
इस सांझ की बेला में,
जब मुझे तुम्हारी रौशनी चाहिए
वो भी निस्तेज से हो गए है
मैं कितनी भी कोशिश करू
तुम्हारे साथ की वो चांदनी रातें, वो जुम्बिश, वो मुलाकातें
जिनमे सिर्फ और सिर्फ हम तुम थे
उन पलो को महसूस करने की
पर इनमे अब वो बात नहो होती,------

कही ये इन शब्दों की कोई चाल तो नहीं,
या
ये इन्हें ये अहसास हो चला है
की इनके न होने से,हमारे बीच
एक मौन धारण हो जायेगा
और हम रह जायेंगे एक भित्त मात्र,
क्यूंकि अक्सर खामोशियाँ मजबूत से मजबूत रिश्तों में भी,
दरारे दाल देती है ------

तो मैं तुम्हे और तुम इन्हें (शब्दों को) बता दो
मैं कभी भी तुम्हारी या तुम्हारे शब्दों की मोहताज न रही
हमेशा से ही मेरी खामोशियाँ गुनगुनाती रही
चाहे वो तुम्हारे साथ हो या तुम्हारे बगैर
जानते हो क्यूँ , क्यूंकि ,
"शब्दहीन संवाद, शब्दीय संवाद से हमेशा ही मुखर रहा है" ------

अमर====

Monday, April 15, 2013

मैं अपनी ही लेखनी बन जाऊ



तुम्हारा ही कहना है
उजालो से डर लगता है
फिर तुम ही कहो
कैसे न मैं रात बन जाऊ !

बिखर जाऊ मैं शबनमी बूंदों सा
ये चाहत है गर तुम्हारी
फिर तुम ही कहो
कैसे न मैं पिघल पिघल जाऊ

टूट कर चाहू तुम्हे
चाहे जैसे धरती को रात रानी
फिर तुम ही कहो
कैसे न मैं टूट - टूट  जाऊ

साथ चल सकू हर पल तुम्हारे
गर यही चाहत हैं तुम्हारी
फिर तुम ही कहो
क्यूँ न मैं तुम्हारा साया बन जाऊं

तुम चाहते हो मैं कुछ न कहू तुमसे कभी
जैसे हो हर शब्द मेरा गूंगा
फिर तुम ही कहो
क्यों न मैं अपनी ही लेखनी बन जाऊ

बीते  मेरे , हर दिन, हर पल
तुम्हारी ही पनाहों में
फिर तुम ही कहो
कैसे न मैं तुम्हारी बाँहों में झूल झूल जाऊ

अमर====

Monday, March 18, 2013

"एक उम्मीद "





कल रात से ही 
आसमा में 
काले घनेरे मेघो का जमावड़ा 
किसके लिए -------

आज सुबह से ही 
हर तरफ , हर गली 
चीखते -चिल्लाते लोग,
त्राहिमाम- त्राहिमाम --------

एक -एक तिनका 
तोड़कर-जोड़कर ,
अपने सपनो को संजोकर 
रखा था करीने से, अलमारियों में 

बीती रात की बेला  
सब बहा कर ले गयी 
संग अपने 
अलमारियों से ,

आज तुम भी 
बेचैन हो शायद 
क्या तुम्हारा घर भी 
कल रात की बारिश गुलजार कर गयी ?

आज एक नयी सुबह 
एक नयी जगह 
फिर से कुछ नए तिनके 
बटोरने है एक नए आशियाने के लिए 

अमर====

Wednesday, February 27, 2013

ओ मेरे कान्हा !



ओ मेरे कान्हा !
अब समय आ गया है
तुम्हारे वापस आ जाने का
और मुझे पता है
तुम आ भी जाओ, शायद
पर क्या तुम
इस सांझ की बेला में
वो महक ला सकोगे
जो तुम्हारे जाने से पहले थी

क्या तुम वो बीते पल ला सकोगे
जो मैंने बगैर तुम्हारे तनहा sगुजारे
मेरे उन आंसुओ का  हिसाब दे सकोगे
जो दिन रत अनवरत बहते ही रहे

तुम किस किस बात का हिसाब दोगे
और मैं तुमसे हिसाब मांगू ही क्यूँ
क्या अधिकार रहा मेरा तुम पर
तुम जाते वक्त सब, हा सब,
साथ ही तो ले गए अपने
और जानते हो कान्हा
एक बार कोई अपना, पराया हो जाए, तो,
फिर वो अपना नहीं रहता
और ये बात तुमसे अच्छा कौन समझ सकता है

*******************************
अब आ ही गए हो तो
कोई बात नहीं
में तुम्हे कुछ न कहूँगी
पर अब अपना भी न कहूँगी
क्या पता, किस पल
तुम फिर से वापस चल दो

में नहीं सह पाऊँगी
इस बार तुमसे जुदाई का गम
नहीं बहा पाऊँगी विरह के आंसुओ को अपने संग
इस बार में खुद ही, बिखर जाउंगी
बन के अश्रुधारा में खुद ही बह जाउंगी

आये हो तो, जरूर कोई बात होगी,
यूँ ही नहीं तुम्हारी, मुझसे मुलाकात होगी
पर इतना सुन लो कान्हा
छल न करना इस बार,
में नहीं चाहती
तुम्हे श्राप देना
डरती हूँ कही आह न लग जाये
मेरी तड़प में कही तू भी न तड़प जाये

बड़ा दुखदायी है ये तड़प का मौसम
वैसे भी तुम्हे क्या पता
तुम तो कभी तड़पे ही नहीं

जाओ वापस चले जाओ
ओ कान्हा
आखिरी बार कहती हूँ
“ओ मेरे कान्हा”


अमर====

Monday, February 18, 2013

"बेइंतेहा मोहब्बत"




अभी कल ही तो खरीदी है हमने 
दो-चार पल की खुशियाँ 
कुछ  हसी
कुछ गम
और साथ में----------थोड़े से आँसू,!!

देखते है कितने दिन चलती है 
पर हा, 
अब मैं किसी से कुछ साझा नहीं करता 
तुम भी मुझसे कुछ सांझा करने को मत कहना 
अब मैं इस मामले में थोडा स्वार्थी हो गया हूँ !!

इस महंगाई के ज़माने में 
अब क्या क्या साझा करू 
वैसे भी कुछ बचा के नहीं रखा 
तुमसे -------
और जो रखा है उसमे अब----तुम तो नहीं ही हो !!

न जाने आगे समय रहे न रहे
न जाने आगे मैं इन्हें फिर से खरीद भी पाऊं या नहीं ,
या बस दूर से ही मन मसोस कर रहना पड़े 
इसलिए, 
मैं इन्हें जी भर के अकेले ही 
भोगना चाहता हूँ 
वैसे भी दूर से आती इनकी महक 
और खुद से ही टकराकर लौटती इनकी प्रतिध्वनि
मुझे पागल सा कर देती है !!

हा कभी तुम भी चाहो 
-----------कुछ ऐसा ही 
तो बस किसी से बेइंतेहा मोहब्बत कर लेना !!

अमर =====

Saturday, February 2, 2013

“समय के घाव“



देव !
आज तुम कोशिश भी न करना
इन्हें (समय के घाव), छूने की -------
निकालने की तो,
सोचना भी नहीं
बहुत तकलीफ होगी
-----तुम्हे भी और मुझे भी

बड़े ही जतन से,
सहेज कर रखा है इन्हें मैंने -------
अपने ही भीतर,
आत्मसात सा कर लिया है,
क्यूंकि, अब,
ये मुझे नहीं जीते,
मैं इन्हें जीती हूँ
हाँ सच !
इन्हें ही तो ----
-------जी रही हूँ मैं 

वैसे, तुम कैसे हो ,------
कैसे आज इधर से आना हुआ
-----------बस यूँ ही सर्द दिनों में
खिली धुप सेंकने का मन हुआ ----
या बीते दिनों की जुम्बिश
तुम्हे इधर खीच लायी -----

कुछ बोलते क्यूँ नहीं,
देव !
क्या बात है ---
इतनी ख़ामोशी भी अच्छी नहीं,
जानते हो,
ऐसी ही एक खामोश रात
मेरा सब छीन ले गयी थी, मुझसे
जिसके बाद से मैं डरने लगी हु तनहाइयों से
अब मैं भी जानती हूँ, और तुम भी
की हो सकता है, तुम मुझे और कुछ दे भी दो
पर तन्हाई नहीं दे सकते

और हाँ,
सुनो, देव !
तुम्हारे जाने के बाद
एक तुम ही नहीं थे,
जिसने मुझसे मुंह मोड़ लिया था,
यहाँ सभी मुझसे खफा हो गये थे
क्या मेरे अपने और क्या मेरे जज्बात,
वो बात ही नहीं करते थे मुझसे
कुछ सुनना ही नहीं चाहते थे,
यहाँ तक की मेरा करुन क्रंदन भी  ,
रोना चाहू तो रोने नहीं देते
हसना चाहू तो वो हसने नहीं देते
जैसे चिढ़ा रहे हो मुझे,
      
मैंने भी रोना हसना सब छोड़ दिया
जीती रही शुन्य में
जागती रही बंद आँखों से ,
देखती रही
पाताल से भी गहरे गहरे
सपने,

और एक दिन
मैंने भी चासनी के धागों में,
तुम्हारी यादों को लपेट केर 
सहेज कर रख दिया सदा के लिए………   

क्यूंकि, अब, 
सहेज कर रखी हुई चीजे
ज्यादा सकूं देती है
जैसे तुम्हारी यादें ====

अमर ====

Thursday, January 17, 2013

“तिलिस्म”





मीलों लम्बे सफ़र
             मीलो लम्बे कारवां,
तलाशते जिंदगी
अनाड़ियों की तरह

पंखो की थकान
मन का भटकाव,
एक अंतहीन सफ़र
पानी के बुलबुलों की तरह

तेज बहती धारा
मंद –मंद बहती हवा,
सोते हुए लोग
भागते तेज बदलो की तरह

पैगाम एक दुसरे का
एक-दुसरे की जुबान पर,
अस्थिर जीवन फीकी रौशनी
यहाँ सब कुछ एक तिलिस्म की तरह

अमर ====


Tuesday, January 15, 2013

प्रेम की मौन भाषा


"एक तुम्हारे, 
 
कह देने भर से तो सब ख़त्म नहीं हो जाता 
एक तुम ही तो नहीं 
जिसने रिश्तों को जिया 
मैंने भी तो ,
तुम्हारे हर सुख-दुःख में,
तुम्हारा साथ दिया,
स्थितियां कैसी भी रही हों ,
कभी उफ़ तक न की,
तुम्हारे साथ बराबर की भागीदार बनी रही
हाँ सच सुना तुमने
"बराबर की भागीदार"
आज बराबरी की बात कह दी,
तो तुम इतना आँख भौं सिकोड़ रहे हो
तब तो कोई ऐतराज न था तुम्हे
जब मंत्र पढ़े गए थे हमारे दरमियाँ
तब तो हमने-तुमने मिलकर कसमें खायी थी
कैसी भी परिस्थति हो
रिश्तों को हम मिल जुलकर निभाएंगे
हम मिलकर सामना करेंगे
फिर आज ऐसा क्या हुआ,
जो तुम दूर जाने को विवश हो गए
शायद
तुम हार गए हों ?
उकता गए हो, मुझसे
या तुम्हारी पुरुष पाशविक प्रकर्ति जाग गयी है
या फिर दूर जाने का बहाना करके,
अपनी कायरता को छुपाना चाहते हो,

तुम भूल गए हो शायद,
की अब तुम्हारी जिंदगी सिर्फ तुम्हारी ही नहीं
मेरे भी जीने का एकमात्र सहारा है
फिर भी गर जाना ही चाहते हो
तो,
जाओ चले जाओ, जहा जाना हो तुम्हे
तुम मुझे, न चाहो, न सही
इसमें तुम्हारा दोष भी नहीं
और तुम्हे दोष देने से फायदा भी क्या
वैसे भी तुम इस "दम्भी पुरुष समाज" के,
बजबजाते हुए एक तुच्छ निमित्त मात्र हो
और
अगर मैं तुम पर दोषारोपण करती भी हूँ
तो ये मेरा, अपने उपर ही लगाया हुआ एक घिनौना इल्जाम होगा,
तुम तो कभी इतने समझदार थे ही नहीं
की प्रेम की मौन भाषा को समझ भी सको
फिर तुमसे क्या कहना
जाओ चले जाओ :(


अमर ====

Tuesday, January 8, 2013

प्रेम या भ्रम


              मै मान भी लूँ
            कि तुम्हे प्यार नहीं मुझसे
            जो भी था,
सब एक छलावा मात्र था
पर इसमें
मेरा तो कोई दोष नहीं
मैंने तो तुम्हे ही चाहा था
चुन लिया था तुम्ही को सदा के लिए

फिर इस बार भी
मै ही सजा क्यूँ भुगतूं 
      हे प्रभु 
तुम बार-बार मुझे ही
क्यूँ चुनते हों
अपनी भृगु दृष्टि के लियें

इसे तुम्हारा प्रेम समझूँ 
      या तुम्हारा उपकार

कैसे कैसे सपने बुने थे
मैंने रेशमी धागों से
तुमने कुछ न सोचा
पल भर में
तोड़ दियें सारें ख्वाब

ये भी न ख्याल आया
इन्ही रेशमी धागों से
बुनी है मेरी साँसों की डोर

तुम तो बस,
तोड़ कर चल दिए
सच !
क्या तुम्हे मुझसे प्यार नहीं
मुझे अब भी ये विश्वास नहीं

अमर====