Followers

There was an error in this gadget

Labels

Loading...
Loading...

Monday, April 2, 2012

"नगर वधु"


१-
नहीं आसरा,
मंजिल का अब, 
न किसी पड़ाव की जरुरत है मुझे 
जो भी रुका, मंजिल बना 
जो चला गया 
वो कुछ पल का रहबर बना 

२-
न मेरी कोई डगर है 
न मेरा कोई नगर है यहाँ 
जिस राह भी तुम ले चलो 
वो ही डगर अपनी 
जिस नगर  में तुम रुको 
वो ही नगर अपना है यहाँ 

३-
न यहाँ की  बस्ती मेरी 
न यहाँ के लोग मेरे 
जिसने जहाँ भी रखा मुझे 
उसी का घर मेरा घर बना 

"ऐ समाज के पुरोधा 
अब तुम ही बताओ, 
मै क्या हूँ ????"

अमर*****     
नगर वधु- तवायफ़ 

86 comments:

  1. Replies
    1. Shukriya संगीता स्वरुप ( गीत ) ji......
      aapka sneh hi hame kuch kerne ko utasahit kerta hai

      Delete
  2. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  3. संवेदनशील अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. bahut pyari... sach hi to kaha aapne:)

    ReplyDelete
  5. नगर-वधू की यही दर्द भरी कहानी है!...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    मेरे उपन्यास 'कोकिला...' के बारे में अपनी राय जरुर दें...अभी शुरुआत है...
    लिंक...
    http://arunakapoor.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. बहुत ही भावपूर्ण शब्दों में नगरवधू के दर्द को उकेरा है.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर...
    अपने अस्तित्व को तलाशती है वो......

    सादर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना!
    आप भी तो हमारे ब्लॉग पर पधारा करें।

    ReplyDelete
  9. "ऐ समाज के पुरोधा
    अब तुम ही बताओ,
    मै क्या हूँ ????"...man kii bedna chhalak padi
    bahut sundar

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shukriya Mamta ji, aapka aana accha lga .aabhar

      Delete
  10. नगर वधु के दर्द को जिया है आपने इन पंक्तियों में ...

    ReplyDelete
  11. bahut samvedna samete hui hai yeh rachna nagar vadhu jiski koi paribhasha hi nahi hai koi astitv hi nahi.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया संवेदन शील रचना,सुंदर अभिव्यक्ति,...अमरेन्द्र जी

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. dherrendra ji shukriya.aapka aane se hamare gher me raunak bad jati hai .sadar

      Delete
  13. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  14. क्या है पहचान मेरी ?
    संबोधन क्या है मेरे लिए ?
    रिश्ता ? क्या है ?

    ReplyDelete
  15. अस्तित्व की तलाश में नारी का दर्द
    बहुत ही संवेदनशील रचना.....

    ReplyDelete
  16. "ऐ समाज के पुरोधा
    अब तुम ही बताओ,
    मै क्या हूँ ????"very touching...

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  18. नगर वधू की वस्तुस्थिति की सटीक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  19. एक और अच्छी प्रस्तुति |
    ध्यान दिलाती पोस्ट |
    सुन्दर प्रस्तुति...बधाई
    दिनेश पारीक
    मेरी एक नई मेरा बचपन
    http://vangaydinesh.blogspot.in/
    http://dineshpareek19.blogspot.in/

    ReplyDelete
  20. मार्मिक सटीक रचना..

    ReplyDelete
  21. "ऐ समाज के पुरोधा
    अब तुम ही बताओ,
    मै क्या हूँ ????"
    बहुत खूब पंक्तियाँ अमरेन्द्र शुक्ल जी ! बहुत भावुक , बहुत कुछ कहती कविता ! बधाई

    ReplyDelete
  22. बहता जल कहाँ कभी किसी उपाधि में बँधा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shukriya Praveen ji , kya bat kahi aapne

      Delete
  23. सबकी अपनी अपनी मजबूरी है.
    सुन्दर भावमय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  24. जिसने जहाँ भी रखा मुझे
    उसी का घर मेरा घर बना
    सुंदर मार्मिक शब्दावली प्रेरणादायक कविता ....रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shukriya Sanjay ji .....bahut dinoke baad aapka yaha aana accha laga **********

      Delete
  25. नगर वधु का अपने आप में दर्द समेटे हुए .....बहुत खूब


    आहें टीसें हैं रंजो गम ,हो हैं सीने में
    कोई बतलाए इन्हें पाल के ,रखूं कब तक ||......अनु

    ReplyDelete
  26. न मेरी कोई डगर है
    न मेरा कोई नगर है यहाँ
    जिस राह भी तुम ले चलो
    वो ही डगर अपनी
    जिस नगर में तुम रुको
    वो ही नगर अपना है यहाँ
    -------नगर-वधू का फ़िर अर्थ क्या हुआ? उसका सिर्फ़ एक ही नगर होता है..
    -----क्या वास्तव में नगर-वधू तवायफ़ को कहते हैं ?..शायद नहीं....... प्रसिद्ध उपन्यास "वैशाली की नगर वधू" को पढें ...फ़िर अपनी कविता व राय ज़ाहिर करें...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dr. Shyam Gupta ji, aapka bahut bahut aabhar.jo aap yaha tak aayen, aapki bahumulya Ray ke liye aabhar..................

      Delete
  27. Replies
    1. Suresh Kumar ji hausla afjai ke liye shukriya

      Delete
  28. बहुत संवेदनशील रचना,बहुत ही सुंदर प्रस्तुति
    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया,"राजपुरोहित समाज" आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ
    ,एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से सभी को भगवन महावीर जयंती, भगवन हनुमान जयंती और गुड फ्राइडे के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ॥
    आपका

    सवाई सिंह{आगरा }

    ReplyDelete
  29. समर्पण की सहज अभिव्यक्ति।
    सुन्दर रचना।
    धन्यवाद।

    आनन्द विश्वास।

    ReplyDelete
  30. अब बताइये इसमें समर्पण की अभिव्यक्ति कहां से आगयी....यह तो तवायफ़ के दर्द की दास्तां है....

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapka kehna bikul sahi hai.......mai abhi sikh rha hun so galti ho gyi hai, aapse kshama chahta hu aage se aapki kasauti pe kahara uterne ki kosis kerunga...sadar

      Delete
  31. Aapka kahna bilkul sahi hai..... Seekh bhi mili.

    ReplyDelete
  32. बहुत ही मार्मिक रचना ....एक नगर वधु के अन्तःस की !

    ReplyDelete
  33. waah ! bahot khoob. sundar srajan abhivyakti ke liye badhayi .

    ReplyDelete
  34. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  35. मन को उद्वेलित करने वाली रचना...

    ReplyDelete
  36. ब्लॉग का नया आमुख बहुत सुन्दर है...

    ReplyDelete
  37. बहुत मर्मस्पर्शी रचना....

    ReplyDelete
  38. पहली बार देखा ब्लॉग! अब पढूँगा पोस्ट-दर पोस्ट!

    ReplyDelete