Followers

There was an error in this gadget

Labels

Thursday, July 21, 2011

चैन आ जाये



बहुत  दिन  बीते  ख्वाबो में मिले 
अब हकीकत  में आ जाओ तो चैन आ जाये

नजरे मेरी, कब से तुझे आईने में निहारे 
अब खुद मुख़ातिब हो जाओ तो चैन आ जाये

कब के टूटे अरमान मेरे, जुड़ते ही नहीं 
खुद टूट के  आ जाओ तो चैन आ जाये

मुहाने खड़े रहे समुंदर के, तो क्या हासिल 
तुम बूँद बन के आओ तो चैन आ जाये 

जैसे गीत गया हो पत्थरों ने, खुदा बनके 
ऐसे ही कोई गीत सुना जाओ तो चैन आ जाये 

मै पर्दा नशीं हो जाऊ, इस दुनियां जहाँ से  
ऐसे कभी पर्दा हटाओ तो  चैन आ जाये 

अरसा गुजर गया चाँद की चांदनी देखे
खुद चांद बन के आओ तो चैन आ जाये