Followers

There was an error in this gadget

Labels

Monday, March 18, 2013

"एक उम्मीद "





कल रात से ही 
आसमा में 
काले घनेरे मेघो का जमावड़ा 
किसके लिए -------

आज सुबह से ही 
हर तरफ , हर गली 
चीखते -चिल्लाते लोग,
त्राहिमाम- त्राहिमाम --------

एक -एक तिनका 
तोड़कर-जोड़कर ,
अपने सपनो को संजोकर 
रखा था करीने से, अलमारियों में 

बीती रात की बेला  
सब बहा कर ले गयी 
संग अपने 
अलमारियों से ,

आज तुम भी 
बेचैन हो शायद 
क्या तुम्हारा घर भी 
कल रात की बारिश गुलजार कर गयी ?

आज एक नयी सुबह 
एक नयी जगह 
फिर से कुछ नए तिनके 
बटोरने है एक नए आशियाने के लिए 

अमर====

8 comments:


  1. तोड़कर-जोड़कर ,
    अपने सपनो को संजोकर
    रखा था करीने से, अलमारियों में
    ............वाह कितना सुन्दर लिखा है आपने, कितनी सादगी, कितना प्यार भरा जवाब नहीं इस रचना का........ बहुत खूबसूरत....... !!!

    ReplyDelete
  2. ज़िंदगी का दूसरा रूप ही यही है शायद क्यूंकि इन तिनकों को बटोरते-बटोरते सारी उम्र गुज़र जाती है मगर एक ठहरा हुआ आशियाँ कभी नहीं बनता। भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. आज एक नयी सुबह
    एक नयी जगह
    फिर से कुछ नए तिनके
    बटोरने है एक नए आशियाने के लिए very nice...

    ReplyDelete
  4. वाह क्या गजब का चित्रण किया है समूचे वातावरण का
    बधाई

    ReplyDelete
  5. नयी सुबह,नयी तलाश,नए तिनके,नया आशियाना सुन्दर चित्रण

    ReplyDelete
  6. हर नई सुबह फिर से जीने की कोशिश, यही ज़िंदगी है... बधाई.

    ReplyDelete
  7. मुंबई का मंज़र याद आ गया ...जब बारिश ने किसी को नहीं बख्शा था

    ReplyDelete