Followers

There was an error in this gadget

Labels

Tuesday, September 22, 2009

माँ का आंचल

जब भी आया माँ तेरे आँचल में ,
सारे गम भूल गया ज़माने के ,
मै जब तक भी रहा तेरे आँचल में,
ज़माने के गम मुझे छु भी न सके ,
उनका तो वास्ता था मुझसे चोली दामन का ,
फिर भी वो मुझे छोड़ के चल दिए ,
क्योकि "मेरी माँ " मेरे पास थी ....
"मै जब भी आया माँ तेरे आँचल में "

No comments:

Post a Comment