Followers

Labels

Tuesday, September 22, 2009

तेरी यादे

अब दिन हो या रात हो,
बस तू मेरे साथ हो ,
दूर रहकर भी तू दूर नही है मुझसे ,
इस बात का तुझे भी एहसास हो,

मै जानता हूँ हर पल तू रह पायेगी मेरे साथ ,
फ़िर भी मै चाहता हूँ अब दिन हो या रात हो ,
बस तू मेरे साथ हो,

अब ये फैसला तू ही कर,
मेरा साथ देगी या देगी जहर,
तू होकर मेरे पास भी,
जाने क्यू दूर सी लगती है,

जाने क्यू तेरी हर अदा कातिल सी लगती है,
तू महजबी भी लगती है कटारी भी लगती है ,
फिर भी तेरी हर अदा जान से प्यारी सी लगती है,

अब दिन हो या रात हो,
तू मेरे साथ हो,
तू मेरे साथ हो ,
बस तू मेरे साथ हो.......

2 comments:

  1. आज 10/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete