Followers

There was an error in this gadget

Labels

Friday, February 17, 2012

मेरा शहर



मदमस्त हवाओ से भरा 
ये मेरा शहर 
आज मेरे लिए ही बेगाना क्यू है 
हर तरफ
महकते फूल, चहकते पंक्षी 
फिर मुझे ही 
झुक जाना  क्यू है 

आज फिर इक चुप्पी सी साधी है 
इन हवाओ ने,
मेरे लिए
नहीं तो कोई,
दूर फिजाओ में जाता क्यू है 

छुपा रहा है
हमसे कोई राज, ये पवन 
नहीं तो और भी है,
इसकी राहों में 
ये इक हमी को तपाता क्यू है 

आज बड़ा खुदगर्ज, बड़ा मगरूर
सा लगता है ये मेरा शहर 
शायद इसकी मुलाकात हुई है  'उनसे'
नहीं तो ये हमी को जलाता क्यू है 

'अमर' जरूर,  रसूख 
कुछ कम हुआ है शायद  
वरना ये अपना हुनर 
हमी पे  दिखाता क्यू है 

59 comments:

  1. महकते फूल, चहकते पंक्षी
    फिर मुझे ही
    झुक जाना क्यू है
    वाह ...बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  2. आज बड़ा खुदगर्ज, बड़ा मगरूर
    सा लगता है ये मेरा शहर
    शायद इसकी मुलाकात हुई है 'उनसे'
    नहीं तो ये हमी को जलाता क्यू है

    एहसासों को खूब लिखा है ॥

    ReplyDelete
  3. आज बड़ा खुदगर्ज, बड़ा मगरूर
    सा लगता है ये मेरा शहर
    शायद इसकी मुलाकात हुई है 'उनसे'
    नहीं तो ये हमी को जलाता क्यू है

    ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है ……………वाह वाह वाह …………दिल को छूती अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. वाह! सुन्दर रचना...
    हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete
  5. कुछ इस कदर गम ए जिंदगी से हैं दिल भरा
    आती हुई बहारों में भी दिल नहीं लगता |......अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. Di aapka ashirwad mere liye bahut hai ......

      Delete
  6. ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है ...............
    कमजोर हम नहीं शायद
    ये वक्त का तकादा ही है.............बहुत खूब..... यशोदा

    ReplyDelete
  7. Replies
    1. Rajesh Kumari ji bahut bahut shukriya
      aapka sneh accha lga

      Delete
  8. ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है| सुन्दर रचना,
    हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete
  9. आज बड़ा खुदगर्ज, बड़ा मगरूर
    सा लगता है ये मेरा शहर
    शायद इसकी मुलाकात हुई है 'उनसे'
    नहीं तो ये हमी को जलाता क्यू है ... waah

    ReplyDelete
    Replies
    1. Adarniya RAshmi Ji bahut bahut shukriya ..aisehi apna sneh banaye rahiye hamare uper

      Delete
  10. बड़ी वाज़िब शिकायत है, आपकी अपने ही शहर से...
    दिल से निकली हूक..दूर तलक जायेगी !
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  11. भावनाओं की अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. Arun ji hausla afjai ke liyebahut bahut shukriyan

      Delete
  12. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  13. छुपा रहा है
    हमसे कोई राज, ये पवन
    नहीं तो और भी है,
    इसकी राहों में
    ये इक हमी को तपाता क्यू है ......bahut khoobsurat prastuti ......waah , har pahara kuch alag kahata sa ,,,,,:)

    ReplyDelete
  14. ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है waah amar ji bdi achchi aur jabardast lekhni chalai aapne.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dr. Nisha ji rachna ke saath saath hamara maan rakhne ke liye bahut bahut bahut shukriyan

      Delete
  15. मदमस्त हवाओ से भरा
    ये मेरा शहर
    आज मेरे लिए ही बेगाना क्यू है

    *
    आज बड़ा खुदगर्ज, बड़ा मगरूर
    सा लगता है ये मेरा शहर
    शायद इसकी मुलाकात हुई है 'उनसे'

    Amarji, jawaab aapne khud hi de diya hai! Mohabbat mai aksar aisa hi hota hai...sab kuch vaisa rahkar bhi vaisa nahi rah jaata. Jindagi phir kabhi pehle jaisi nahi hoti!

    Bhagwan se dua hai aapko mohabbat ki khoobsurati hamesha mile.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shaifali ji aapka bahut bahut shukriyan .............aapki duwaon ka aser hone lga hai ............aabhar

      Delete
  16. ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है...

    बड़े-बड़े शहरों में ऐसा ही होता है...

    ReplyDelete
  17. Replies
    1. Rekha Srivastava ji yaha tak aane aur rachna ka maan rakhne ke liye shukriyan

      Delete
  18. बहुत खूब अमरेन्द्र जी...
    :)

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर....
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति अमरेन्द्र जी...

    ReplyDelete
  21. जब किसी का साथ नहीं होता तो सक कुछ अनजाना सा ही लगता है ...
    गहरी अभिव्यक्ति है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Digamber Naswa Ji Hausla Afjai ke liye Shukriyan

      Delete
  22. हर शहर का व्यक्तित्व होता है, वह हर रहने वाले से बतियाता है।

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन भाव ,सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  24. ए 'अमर' जरूर, रसूख
    कुछ कम हुआ है शायद
    वरना ये अपना हुनर
    हमी पे दिखाता क्यू है

    आपने अपनी प्रस्तुति को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है । सदा सृजनरत रहें ।मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  25. bahut sunder prastuti.bahut badhaai aapko .

    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (३२) में शामिल किया गया है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप सबका आशीर्वाद और स्नेह इस मंच को हमेशा मिलता रहे यही कामना है /आभार /इस मीट का लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/02/32-gayatri-mantra.html

    ReplyDelete
  26. Prerna Argal ji bahut bahut shukriyan

    ReplyDelete
  27. sunder chitra ...sunder rachna ...aaj aapka blog join kar liya ...
    shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  28. कल 30/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  29. वाह क्या बात है बहुत खूब....

    ReplyDelete