Followers

There was an error in this gadget

Labels

Friday, December 9, 2011

मै इक बंधा ''शिकारा''



न तुम, मेरे करीब आ सकी 
न मै, तुमसे दूर जा सका 
उम्र बीतती रही ऐसे ही ख्यालो में 
 कभी तुम कुछ नहीं बोले 
 न कभी हमसे कुछ बोला  गया,

कभी तुम मुझसे छुपाते गए 
कभी मुझसे दिखावा न हुआ 
न जाने वो कैसा रास्ता था 
जिसपे कभी तुम नहीं चले 
और न कभी मुझसे अकेले आया गया 

 
तुम रहे इक आजाद पंछी 
मै इक बंधा ''शिकारा''
तुमने रुकना मुनासिब नहीं समझा 
 न कभी मुझसे तुम्हे रोका ही गया 

तुम्हे नए रिश्ते बनाने का शौक
हमे पुराने बंधन प्यारे 
तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया 
और न हमसे नये साहिलों से  रिश्ता बनाया गया

55 comments:

  1. तुम रहे इक आजाद पंछी
    मै इक बंधा ''शिकारा''
    बिम्बों और प्रतीकों का खूबसूरती से प्रयोग किया है आपने......ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  2. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. यह भी खूब निभा.

    ReplyDelete
  4. तुम्हे नए रिश्ते बनाने का शौक
    हमे पुराने बंधन प्यारे
    तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया
    और न हमसे नये साहिलों से रिश्ता बनाया गया

    सही कहा आपने ....
    कभी-कभी ये रिश्ते ही बंधन हो जाते हैं...
    हम तो बंध जाते हैं किसी रिश्ते से और सामने वाला उसकी न अहमियत समझता है और न उस रिश्ते की इज्ज़त ही करता है...!!

    ReplyDelete
  5. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. बढ़िया |
    बधाई अमरेन्द्र जी ||

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरती से दिल से बंधे रिश्ते को परिभाषित किया है ...कुछ शब्द जो दिल से दिल तक की बात को समझते है .....बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. मनोभावों की ज़बरदस्त अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  9. kya baat hei ..bahut sunder..aek shikaare ki kahani ..

    ReplyDelete
  10. हमसे आया न गया ,उनसे बुलाया न गया
    फासला प्यार में दोनों से मिटाया न गया .
    अच्छी रागात्मक अभिव्यक्ति है आपकी पोस्ट की .

    ReplyDelete
  11. भावों से नाजुक शब्‍द......बेजोड़ भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
  12. कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी यूँ ही कोई बेवफ़ा नहीं होता ......किसी ने ठीक ही कहा है !

    उम्दा !

    ReplyDelete
  13. "तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया
    और न हमसे नये साहिलों से रिश्ता बनाया गया"

    बहुत सुंदर रचना ! बधाई !

    ReplyDelete
  14. तुम रहे इक आजाद पंछी
    मै इक बंधा ''शिकारा''
    तुमने रुकना मुनासिब नहीं समझा
    न कभी मुझसे तुम्हे रोका ही गया
    khoob ..... Behtreen bhav

    ReplyDelete
  15. सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना ...बधाई स्वीकार करें !
    मेरी नई पोस्ट पे पधारें !

    ReplyDelete
  16. आज़ाद पंछी और बंधा शिकारा ...
    मन को घरे छूते हुए प्रतिमानों ने कविता की भावना को बहुत स्पष्ट किया !

    ReplyDelete
  17. तुम रहे इक आजाद पंछी
    मै इक बंधा ''शिकारा''
    तुमने रुकना मुनासिब नहीं समझा
    न कभी मुझसे तुम्हे रोका ही गया
    Nihayat sundar panktiyan....waise to sampoorn rachana hee behad achhee hai!

    ReplyDelete
  18. bhut pyari rachna hae bdhai..........

    ReplyDelete
  19. @ Sanjay Bhaskar ji
    @ Sada ji
    @ P Singh ji
    @ Rahul Sir ji
    Aap sabhi ka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  20. @ Punam Ji
    @ Sandhya Sharma ji
    @ Ravikar ji
    @ Reena Maurya ji
    @ Anju Di Ji
    aap apna sneh aise hi banaye rahiye

    ReplyDelete
  21. @ Kuwar Kusumesh ji
    @ Sameer ji
    @ Dershan ji
    @ Veerubhai ji
    @ Sushma ji
    aap sabhi shubchintko se nivedan hai ki aise hi apna aseem pyar banaye rahiye .aabhat

    ReplyDelete
  22. @ Chandra Bhusan Ji
    @ Anamika ji
    @ Sushila ji
    @ Monika Sharma ji
    @ Suman Ji
    hausla afjai ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  23. @ Manish Singh ji
    @ Ashok Birla ji
    @ Gopal Tiwari ji
    @ Kshama ji
    @ Sangita ji
    yaha tak aane aur apne sunder coomets se nawajne ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  24. तुम्हे नए रिश्ते बनाने का शौक
    हमे पुराने बंधन प्यारे
    तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया
    और न हमसे नये साहिलों से रिश्ता बनाया गया ...

    अक्सर ये फर्क फांसले पैदा करता है और दूरी बडती जाती है ... बहुत खूब लिखा है ...

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर......
    "कभी तुम मुझसे छुपाते गए
    कभी मुझसे दिखावा न हुआ"
    खूबसूरत जज़्बात...
    वाह.

    ReplyDelete
  26. dil ko chu gayi ye rachna...soch ka ye antar ateet ke rishton se bandhe rahne vale ko bahut dard deta hai...sundar rachna
    welcome to my blog :)

    ReplyDelete
  27. अच्छी रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  28. बहत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  29. ख़ूबसूरत एहसास के साथ उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  30. बहुत खुबसूरत रचना..बधाई..

    ReplyDelete
  31. कोमल भावों से सजी कविता ...बधाई

    ReplyDelete
  32. @Digembar Naswa ji
    @ Vidya ji
    @Monika Jain ji
    @ S M Habib Sahab
    aap sabhi ka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  33. @ Mamta Bajpai ji
    @ Urmi ji
    @ Maheshwari Kaneri ji
    @ Vandana ji
    aap sabhi ka tahe dil se shukriya
    aise hi aap apna sneh banaye rakhe

    ReplyDelete
  34. बेहद खुबसूरत ,

    ReplyDelete
  35. ख़ूबसूरत एहसास .......

    ReplyDelete
  36. aapki rachna padhkar kisi film ka ek pyara sa geet yaad aa gaya...

    humse aaya na gaya
    tumse bulaya na gaya
    faasla pyaar ka dono se mitaya na gaya...

    bhaavpurn rachna, badhai.

    ReplyDelete
  37. मजबूरियां है दोनों तरफ , अच्छी रचना

    ReplyDelete
  38. वाह वाह,क्या बात है .

    ReplyDelete
  39. तुम रहे इक आजाद पंछी
    मै इक बंधा ''शिकारा''
    तुमने रुकना मुनासिब नहीं समझा
    न कभी मुझसे तुम्हे रोका ही गया

    बहुत खूब लिखा है ...........

    ReplyDelete
  40. तुम्हे नए रिश्ते बनाने का शौक
    हमे पुराने बंधन प्यारे
    तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया
    और न हमसे नये साहिलों से रिश्ता बनाया गय...wah kya marm hai kavita mein ..gajab

    ReplyDelete
  41. @ Amrita Tanmay ji
    @ Rajeev Panchhi ji
    @ Dr. Shabnam ji
    @ Sunil Kumar ji
    aap sabhi ka bahut bahut shukriya yaha tak aane aur rachna ka maan rakhne ke liye saath hi saath naye vers ki hardik shubkamanye

    ReplyDelete
  42. @ Kunwar Kusumesh ji
    @ Manjula Ji
    @ Nirjher Jheer ji
    aap sabhi ka bahut bahut shukriya yaha tak aane aur rachna ka maan rakhne ke liye saath hi saath naye vers ki hardik shubkamanye

    ReplyDelete
  43. amar ji
    तुम्हे नए रिश्ते बनाने का शौक
    हमे पुराने बंधन प्यारे
    तुमसे कभी बन्धनों में बंधा न गया
    और न हमसे नये साहिलों से रिश्ता बनाया गया
    bahut saari baaten bayan karti hain ye panktiyan
    bahut hibehatreen
    badhai
    poonam

    ReplyDelete
    Replies
    1. Poonam ji bahut bahut shukriyan.aap aise hi apna sneh banaye rakhe ............aabhar

      Delete