Followers

There was an error in this gadget

Labels

Saturday, December 4, 2010

मजबूत प्रतिद्वंदी

जब भी मन होता है 
तुमसे मिलने का 
उसी पेड़ की छाव में 
आ जाता हूँ, 

पछी घोसले नहीं बनाते
अब इस पेड़ पर 
तो क्या हुआ 
छाव में बैठते तो है ,

ये आज भी ,
उन हठीले तुफानो का सबसे मजबूत प्रतिद्वंदी है 
जिसमे न जाने कितने घर उजड़  गए   
और ये  खड़ा देखता रहा ,
 
"बस रिश्ते कमजोर पड़ गए 
जो इसकी छाव में बने"  

16 comments:

  1. बहुत भावपूर्ण!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर.... भावुक अंदाज...

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत खूब....
    प्यारी सी कविता..

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण.......मन को छू गयी आपकी कविता.

    आपका साधुवाद

    आपके अपने ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है

    अरविन्द जांगिड,
    कनिष्ठ लिपिक,
    सीकर (राजस्थान)

    ब्लॉग पता-
    http://arvindjangid.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. Sameer Sir, Aapka tahe dil se shukriya............

    ReplyDelete
  6. Mahendra ji hardik abhinandan hai aapka.........

    ReplyDelete
  7. Shekhar Ji rachna ka maan rakhne k liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  8. arvindjangid ji swagat hai aapka ..shukriya

    ReplyDelete
  9. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,अच्छी रचना , बधाई ......

    ReplyDelete
  10. Shiva ji aap yaha tak aaye mere liye garv ki baat hai .....Shukriya ..aise hi aap saath banaye rakhiyega........mai aapke sahyog ka sadaiv akanshi hu

    ReplyDelete
  11. क्या बात है..बहुत खूब....बड़ी खूबसूरती से दिल के भावों को शब्दों में ढाला है.

    ReplyDelete
  12. सुलभ § Sulabh ji bahut bahut shukriya

    ReplyDelete