Followers

There was an error in this gadget

Labels

Friday, November 26, 2010

फरेबी


"अंधेरो  में  
रास्ते  दिखते  है यहाँ,  
दिन  के  उजाले  करते  है  
बगावत,  
रातो  को 
जुगनू  अपनी  चमक  
बिखेरता  है,  
सुबह  का  सूरज  
घना  अँधेरा  है  "

"जहा तक  भी  देखूँ
कुछ  दिखता  नहीं ,
बंद  कर  लू  
जो  आँखे  
तो फिर वही  तेरा
फरेबी  चेहरा  है "

"राहों में आकर तेरी 
राहों में नहीं थे ,
इक तुम थे  
जो मेरे मन मंदिर में होकर भी,
मेरे नहीं थे "

11 comments:

  1. Sameer Ji Hardik Abhinandan hai aapka .....
    Hausla afjai k liye bahut bahut shukriya......

    ReplyDelete
  2. Ashish ji rachna ka maan rakhne k liye mai abhari hu aapka.shukriya

    ReplyDelete
  3. फरेबी
    शीर्षक में गज़ब का आकर्षण है जो यहाँ तक खींच लाया .सुन्दर कविता.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना एक एक शब्द भाव लिए हुए

    ReplyDelete
  5. Shukriya Sanjay ji .....................

    ReplyDelete
  6. farebi hote hi aaisen..... gahre jajbat ke sath sunder kavita

    ReplyDelete
  7. Aditya ji bus aapka saath hi .Shukriya .................

    ReplyDelete