Followers

There was an error in this gadget

Labels

Monday, November 1, 2010

दुनिया के रंग


मै दुनिया के हसीन रंगों में, 
अपनी खुशी का रंग ढूँढता  रहा ,
कुछ तो जाने जाने पहचाने मिले ,
बाकियों का वजूद ढूँढता  रहा ,

जिस रंग को सब मिल रहे थे 
सब अपने चेहरे पे मढ़ रहे थे 
मैंने भी सबकी देखा देखी,
उस रंग  को चुन लिया ,

कोशिश की चढाने की,
उन्हें अपने रंग पे, 
कुछ तो चढ़ा  मेरे हिसाब  से,
कुछ अपने रंग में चढ़ गया, 

कुछ दिन तो चमकता रहा, 
फिर वो भी हसने लगे ,
मुझे मेरी वही सूरत 
फिर से दिखाने लगे,
 
दो दिन में ही उसने अपना रंग ,
दिखा दिया, 
मै जैसा था वैसा ही मुझको,
बना दिया, 

"ये सारें रंग,
चढ़ के भी मुझपे, 
बेरंग नजर आते है, 
ये दुनिया के रंग है,
जो दो पल में उतर जाते है,..............."

"सदियाँ गुजर गयी वो रंग नहीं उतरा, 
जहाँ पे सर रख कर वो  इक बार जो रोया था "

अमरेन्द्र "अक्स"

27 comments:

  1. "ये सारें रंग,
    चढ़ के भी मुझपे,
    बेरंग नजर आते है,
    ये दुनिया के रंग है,
    जो दो पल में उतर जाते है,...

    पर हमने तो सुना है दुनिया के रंग नहीं उतारते चढ़ते ही जाते हैं ... गहरे होते जाते हैं ...

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  3. दुनिया के रंग अजीब होते हैं कब ठहरते हैं………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. ye duniya ki kuchh ajab reet hi hai........ very nice creation.

    ReplyDelete
  5. दिगम्बर नासवा ji aap bilkul sahi keh rahe hai Shayed...........pr shayed duniya me kuch rang hi aise hai jo chad k nahi utarte nahi to wo rang hi kya jo chade aur utar na jaye .....
    Shukriya bahumulya samay dene k liye

    ReplyDelete
  6. वन्दना ji bahut bahut shukriya hausla afjai kerne k liye ...........

    ReplyDelete
  7. sada ji yaha tak aane aur rachna ka maan rakhne k liye bahut bahut shukriya..................

    ReplyDelete
  8. उपेन्द्र ji shukriya

    ReplyDelete
  9. bahut hi khub likha hai aapne amrendra ji thanks for posting

    ReplyDelete
  10. Naswa ji mai ek baar phir se aapka shukriya ada kerna chahunga jo aapne apni nigahen yaha pe bhi inayat ki ............

    ReplyDelete
  11. pooja ji ye to bs aap sabka pyar hai .aur kuch nahi ..shukriya yaha tak aane k liye.................

    ReplyDelete
  12. अरे वाह अमरेन्द्र जी , बहुत खूब लिखते हैं आप....
    मुझे तो बड़ी पसंद आई..
    follow किये जा रहा हूँ...आता रहूँगा...

    ReplyDelete
  13. मेरे ब्लॉग पर मेरी रचनायें आपके स्वागत के लिए तैयार खड़ी हैं....

    ReplyDelete
  14. Shekar ji derwaje p dastak dene k liye dhanyawaad ..........hum bhi aapki rahonme hai

    ReplyDelete
  15. ये सारें रंग,
    चढ़ के भी मुझपे,
    बेरंग नजर आते है,
    ये दुनिया के रंग है,
    जो दो पल में उतर जाते है,....."

    बहुत ख़ूबसूरत...ख़ासतौर पर आख़िरी की पंक्तियाँ....मेरा ब्लॉग पर आने और हौसलाअफज़ाई के लिए शुक़्रिया..

    ReplyDelete
  16. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  17. Sanjay ji shukriya apna saath sadaiv aise hi banaye rakhe.......

    ReplyDelete
  18. "सदियाँ गुजर गयी वो रंग नहीं उतरा,
    जहाँ पे सर रख कर वो इक बार जो रोया था "
    सुभानल्लाह ! कितना सुंदर लिखा है आपने !!
    बहुत बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  19. amrendra ji,
    kya kahuun ,sabne to sab kuchh kah diya.han!pahli bar aapke blog par aai hun.aur aapki rachna ne mantra -mugdh sa kar liya.
    bahut hi achhi hai aapki lekhani.
    shubh kamna sahit--------------
    poonam

    ReplyDelete
  20. Badi Maa(usha rai)Sadar Pranam .aur aapka ashirwad aise hi milta rahe mere liye bahut hai .Pranam,******

    ReplyDelete
  21. Poonam Ji aapko rachna pasand aayi ye mere liye saubhagya ki baat hai***** aise hi aap sneh banaye rakhiyega******

    ReplyDelete
  22. achchhi kavitaa hae

    aapka blog bhi sundar

    aur aapki tasvir bhi achchhi lagi

    isi tarah ek ek kar kavitaaye padhata rahunga

    tum mere putr jaese ho at :

    AASHIRVAAD ..DETAA HUN .JIIVAN ME UNNATI KARATE JAAYE

    KISHOR

    ReplyDelete
  23. Sadar Pranam Sir, Aapne hume putr kaha isse bada ashirwad kya hoga mere liye ............
    mai aapka sadaiv abhari rahunga

    ReplyDelete
  24. awesome writing very very impressive amrendra.

    ReplyDelete
  25. Shukriya Mamta ji yaha tak aane aur rachna ka maan rakhne k liye shukragujar hu aapka....

    ReplyDelete
  26. waah amrendra ji aap ki sari rachnaye hamne bahot gaur se padhin .........aur unki gehraiyon me doobte chale gaye.
    hamre paas shabd hi nahi jisme ham aap ki in rachnaon ke liye kuchh bhi keh saken.bahot hi gehri baat likhte hain aap,aage bhi aise hi likhte rahen....keep it up

    ReplyDelete
  27. Anonymous ji shukriya... aap aise hi saath banaye rakhiyega , to hum jarur aisa hi likhte rahenge................aapka mitr

    ReplyDelete