Followers

There was an error in this gadget

Labels

Loading...
Loading...

Thursday, May 20, 2010

"खामोश निगाहे"

मेरी खामोश निगाहे,
अब भी तेरा  पता ढूंढें,
तू  कही भी हो
ये तेरा ही  निशाँ ढूंढें ,

मै कैसे कह दू 
ये भूल गयी   है तुझे ,
ये  अब भी उस  गली में
पलके  बंद कर के अपनी, तेरा ही  मकां ढूंढे,

शाम होते ही
पैमाने भी देखकर ,
मुझको अपने आगोश में
निकल पड़ते है  तेरा पता ढूंढे ,

रात होती है जो
गमो के साथ ए 'अक्स',
तो खुद सवेरा
आने का बहाना ढूंढे ,

वक्त गुजारे है
तेरे दामन में जो हमने ,
मेरी आँखे उन्ही सुरमयी
नजारों का निशाँ ढूंढे ,


सुर्ख लाली सी छायी है आज भी आँखों में
ये तेरी बिंदिया  की लाली को आज भी ढूंढे I





2 comments: