Followers

There was an error in this gadget

Labels

Friday, April 30, 2010

"मोम का जिस्म "

मोम का जिस्म लेकर,

आग से खेला किया,

मुमकिन थी जीत मेरी,

पर हर पल हारा किया,



ये मालूम था इस खेल में,

हार होनी है मेरी ,

पर न था ये मालूम,

की जिसे जीता रहा हर पल ,

उसी ने मेरी "हार का सौदा " किया,



फिर भी अफ़सोस न होता हार का,

जो हार मेरी उसके आगोश" में होती,

पर वो बेरहम यहाँ भी ,

बस दूर से खेला किया ,



और मै "मोम का जिस्म " लेकर,

आग से खेला किया !

4 comments:

  1. वाह ! वाह ! अमरेन्द्र ! आपने तो कमाल कर दिया !बेहद खुबसूरत रचना ! बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  2. aapka ashirwad se ab kuch sikh raha hu ..............sader pranam................

    ReplyDelete
  3. aisa hi to ho raha hai aajkal .jinse aap ummid lagaye rahate hai vahi aapko vifal karne ki yojanaye bhi banate hai.
    par aapki rachna baht hi prabhavshali v preranadaai hai.hardik badhai.
    poonam

    ReplyDelete