Followers

There was an error in this gadget

Labels

Saturday, June 30, 2012


'सफ़ेद हंस' 

इक दिन
रह जाओगे ,
समुंदर में मोती की तरह 
बेशकीमती, पर,
कैद अपने ही दायरे में 
अपनी ही तनहाइयों के साथ ..........

कितनी ही परते 
चढ़ी होंगी तुम पर ,
कितने ही कठोर 
बन चुके होंगे तुम 
फिर भी 
ढून्ढ ही लेगा मोती चुगने वाला 'सफ़ेद हंस' 
तुम्हे, 

तोडकर तुम्हारा अभिमान 
बिखरा देगा 
धरातल पर , 
पल भर में तोड़ देगा,
तुम्हारा झूठा गुरुर 

सोच कर वो दिन 
मै आज से हैरान हूँ, 
तुम मेरे लिए न सही 
मै तुम्हे सोचकर परेशान हूँ ........

===="अमर"====
30.06.2012 

24 comments:

  1. बहुत गहन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ....लेखिनी भी धवल सी ...

    ReplyDelete
  3. सोच कर वो दिन
    मै आज से हैरान हूँ,
    तुम मेरे लिए न सही
    मै तुम्हे सोचकर परेशान हूँ ........
    वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर....

    कोमल भावों से सजी, प्यारी सी रचना.....

    अनु

    ReplyDelete
  5. सोच कर वो दिन
    मै आज से हैरान हूँ,
    तुम मेरे लिए न सही
    मै तुम्हे सोचकर परेशान हूँ ........ कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना ..!!
    शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shukriya Shastri ji , aapka sneh hi to hame likhne ke liye prerit kerta hai.......aabhar

      Delete
  8. सोच कर वो दिन
    मै आज से हैरान हूँ,
    तुम मेरे लिए न सही
    मै तुम्हे सोचकर परेशान हूँ .

    बहुत खूबशूरत भावों की अभिव्यक्ति ,,,
    सुंदर संम्प्रेषण,,,,अमरेन्द्र जी बधाई ,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  9. कोई हमारा मोल तो समझे..

    ReplyDelete
  10. काश!



    बहुत ही उम्दा!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. इक दिन
    रह जाओगे ,
    समुंदर में मोती की तरह
    बेशकीमती, पर,
    कैद अपने ही दायरे में
    अपनी ही तनहाइयों के साथ

    ढूंढ ही लेगा कोई हंस. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  15. इक दिन
    रह जाओगे ,
    समुंदर में मोती की तरह
    बेशकीमती, पर,
    कैद अपने ही दायरे में
    अपनी ही तनहाइयों के साथ ..........


    बहुत सुन्दर शब्दों में अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर शब्दों में अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  17. समय में अनंत सम्भावनायें छिपी हैं!

    ReplyDelete
  18. बहुत खूबशूरत अभिव्यक्ति ......अमरेन्द्र जी

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबशूरत अभिव्यक्ति .....अमरेन्द्र जी

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  21. waah bahut acchi abhiwayakti ...padhkar dil khush ho gaya ...

    ReplyDelete