Followers

There was an error in this gadget

Labels

Thursday, February 24, 2011

आने वाली शाम



ये दिन भी बड़े अजीब  हैं 
जब शाम ढले तुम पास आते हों 
दोपहर अपनी सुनहरी चादर समेटता
शाम फैलाती अपनी ठंडी-ठंडी बाहें

रात की रागिनी करती हमारा इन्तजार 
अपनी पनाहों में लेने को 
चाँद भी चांदनी को भेजता ज़मी पर
हमे अपनी भीनी भीनी रौशनी में जगमगाने को 

ये तारे भी 
हमे अपने होने का अहसास दिलाते 
देख कर हमारे मिलन की बेला 
कही दूर गगन में टूट से जाते

तारो से बिछड़ने का गम 
चाँद भी न सह पता
मुझे तेरे आँचल में देखकर 
चंद पलो में रात को लेकर चला जाता 

और कब हमारे मिलन की ऋतु बीत जाती  
ये हम जान भी न पाते 
हम फिरआने वाली शाम का इंतजार करते, 

ये दिन भी बड़े अजीब  हैं 
जब शाम ढले तुम पास आते हों 

80 comments:

  1. ये तारे भी
    हमे अपने होने का अहसास दिलाते
    देख कर हमारे मिलन की बेला
    कही दूर गगन में टूट से जाते

    सुंदर अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  2. शब्द जैसे ढ़ल गये हों खुद बखुद, इस तरह कविता रची है आपने।
    अमरेंदर भाई तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.

    ReplyDelete
  3. कोमल अहसासों का सुन्दर चित्रण किया आपने बधाई!

    ReplyDelete
  4. कोमल कोमल अहसासात कविता में ढल गए .बहुत बढ़िया.
    plz.visit my blog: kunwarkusumesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. ये तारे भी
    हमे अपने होने का अहसास दिलाते
    देख कर हमारे मिलन की बेला
    कही दूर गगन में टूट से जाते
    बहुत खूब ... अच्छे भावों से सजाया है रचना को ..

    ReplyDelete
  6. "ये तारे भी
    हमे अपने होने का अहसास दिलाते
    देख कर हमारे मिलन की बेला
    कही दूर गगन में टूट से जाते.."....
    ...शानदार रूमानी कविता।

    ReplyDelete
  7. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  8. संजय जी रचना का सम्मान रखने क लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  9. जयकृष्ण राय तुषार जी हौसला अफजाई के लिए आभारी हु आपका , उम्मीद है अब मिलना जुलना लगा रहेगा

    ReplyDelete
  10. ज़ाकिर अली ‘रजनीश' जी शुक्रिया

    ReplyDelete
  11. ktheLeo जी शुक्रिया

    ReplyDelete
  12. भावनाओं का सुन्दर अहसास.

    ReplyDelete
  13. सुंदर अभिव्यक्ति ..... आभार.

    ReplyDelete
  14. इस आने वाली शाम की सुबह भी जल्‍द आए.

    ReplyDelete
  15. प्रेमरस में सराबोर सुन्दर शब्दरचना बहुत ही मनमोहक है !

    ReplyDelete
  16. ये तारे भी
    हमे अपने होने का अहसास दिलाते
    देख कर हमारे मिलन की बेला
    कही दूर गगन में टूट से जाते
    सुंदर पंक्तियां...सुंदर भाव

    ReplyDelete
  17. दिगम्बर नासवा ji shukriya yaha tak aane k liye aur
    rachna ka maan badhane k liye

    ReplyDelete
  18. Bakliwal ji rachna ka samman rakhne k liye aapke bahumulya commenta k liye abhari hu

    ReplyDelete
  19. Rajesh ji shukriya.aur is shaam ki subah bhi jald hi aayegi ...bus aap aise hi aate rahiye

    ReplyDelete
  20. Veena ji is gher (blog)ki shobha me char chand lagane k liye mai aapka dil se abhari hu shukriya

    ReplyDelete
  21. शब्दों मे भावनाओं का चित्रण अच्छा लगा। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  22. वाह...प्रेमपूर्ण बहुत ही भावुक कोमल मनोहर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  23. Nirmala Di Ji Pranam aur aapka yaha aana hume bahut accha lagta hai, abhaar

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  25. बहुत अजीब होते हैं प्रेम के पल.
    उम्दा अभिव्यक्ति.
    सलाम.

    ReplyDelete
  26. रात की रागिनी करती हमारा इन्तजार
    अपनी पनाहों में लेने को
    चाँद भी चांदनी को भेजता ज़मी पर
    हमे अपनी भीनी भीनी रौशनी में जगमगाने को ....

    हृदयस्पर्शी पंक्तियां हैं......
    अच्छी कविता के लिये बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  27. आपकी इस अति सुंदर रचना के लिए ढेर सी बधाई.आप मेरे ब्लॉग
    'मनसा वाचा कर्मणा' आये इसके लिए आपका आभारी हूँ .कृपया ,
    समय समय पर आकर अपने बहुमूल्य विचारों से सहयोग प्रदान करते रहिएगा .

    ReplyDelete
  28. बहुत खूबसूरत एहसास .....पता की जगह पाता कर लें ..

    ReplyDelete
  29. ये तारे भी
    हमे अपने होने का अहसास दिलाते
    देख कर हमारे मिलन की बेला
    कही दूर गगन में टूट से जाते
    sundar bahut hi .aap aaye aabhari hoon .

    ReplyDelete
  30. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ...मेरे ब्‍लाग पर प्रोत्‍साहन के लिये आपका आभार ।

    ReplyDelete
  31. तारो से बिछड़ने का गम
    चाँद भी न सह पता
    मुझे तेरे आँचल में देखकर
    चंद पलो में रात को लेकर चला जाता

    और कब हमारे मिलन की ऋतु बीत जाती
    ये हम जान भी न पाते
    हम फिरआने वाली शाम का इंतजार करते,

    बहुत गहरे और प्रेम भरे कोमल अहसास... बहुत सुन्दर... इंतज़ार की कशिश है हर शब्द में....

    ReplyDelete
  32. अच्छे भाव समेटे बढ़िया रचना .


    हमारे प्रयास में सहयोगी बने फालोवर बनके उत्साह वर्धन करिए
    आइये हमारे साथ

    यूबीए पर

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  34. sagebob ji aapka yaha per aana bahut accha laga,
    umeed kerta hu aap apna pyar aur sneh aise hi banaye rakhengi.....shukriya

    ReplyDelete
  35. Dr (Miss) Sharad Singh ji aapke bahumulya commenta k liye bahut bahut shukriya......

    ReplyDelete
  36. Rakesh Kumar ji bahut bahut shukriya, aapka yaha tak aane aur apna bahumulya comments dene k liye ,
    ummed kerta hu ab aise hi aana jana laga rahega ......

    ReplyDelete
  37. संगीता स्वरुप ( गीत )ji aapke keemti sujhao k liye mai tahe dil se shukriya ada kerta hu .......
    aapke comments se ahsaas hota hai ki wakai me aapne dil se comments diya hai , sudhar kerne ke liye mai aapka bahut bahut abhari hu

    ReplyDelete
  38. jyoti singh ji ye sab to chalta hi rahega kabhi hum aapke gher aayenege , kabhi aap humare gher, choti si to duniya hai aana jan to laga hi rahega ...shukriya aapke bahumulya sabdo se bhare comments ka ...........

    ReplyDelete
  39. Sada ji yaha tak aap aayi aur apne bahulya comments se rachna ka maan badhaya.mai aapka abhari hu

    ReplyDelete
  40. Sandhya ji rachna ko uske anjaam tak pahuchane k liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  41. Mithilesh dubey ji shukriya .aur ha hum b aapke saath hai

    ReplyDelete
  42. प्रिय बंधुवर अमरेन्द्र जी
    सस्नेहाभिवादन !


    ये दिन भी बड़े अजीब हैं
    जब शाम ढले तुम पास आते हों


    वाह जी वाह ! क्य बात है ! :)


    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  43. Rajendra Swarnkar ji hausla afjai k liye bahut bahut shukriya, aapko bhi Basant ritu ki hardik badhai aur shubkamnaye

    ReplyDelete
  44. भगत सिंह तुम फेल आदमी हो,तुम जिन आदर्शो और सिधान्तो की बात करते हो वो भी तुम्हारी तरह फेल है,क्योकि उनमे सिर्फ देशभक्ति है राजनीती नहीं,इसी कारण वो हर जगह फेल है!
    तुम हालात को देख कर अपने सिधांत लिखते,क्या तुम्हे पता नहीं था की जो युवा तुम्हारे साथ तुम्हारे वक़्त में नहीं थे उनकी संताने तुम्हारे साथ भविष्य में कैसे होंगी!
    तुम्हारे देशभक्ति भरे सिधान्तो की वजह से मै रोज बापू के बेटो के निशाने पर रहता हूँ,मुझे शिकायत है तुमने उसमे राजनीती क्यों नहीं जोड़ी!
    और तो और तुम बेकार में फांसी चढ़ गए बिना लालच,तुम्हे राजनीती करनी थी ताकि हमे भी सत्ता का सुख मिलता,कही तुम भी चरखा ले कर बैठ जाते,क्यों जुल्म के खिलाफ पिस्तोल उठाई?
    तुम्हारे सिधान्तो को कोई नहीं पढता क्योकि वो कीमत मांगते है,जज्बा मांगते है त्याग मांगते है,तुम्हे भी अपने समकालीन नेताओ की तरह सिधांत गढ़ने चाहिए थे,जिनमे सब कुछ मिलता हे मिलता है खोना कुछ नहीं पड़ता!
    और तो और तुम्हे तुम्हारी जानकारी के लिए बता दू की आंशिक रूप से आजाद इंडिया की सरकार की नज़र में तुम्हारी कीमत एक रुपये,दो रुपये से ज्यादा नहीं है और दूसरी तरफ तुम्हारे दौर के बकरी वाले बाबा हजारो पर छाए हुए है,अगर मेरा ख़त पढ़ रहे हो तो दोबारा जन्म मत लेना, नहीं तो सरकार तुम्हे आतंकवादी कह कर जेल में सडा देगी,फांसी भी नहीं देगी!
    ये सब लिखते हुए मेरी आँखों में आंसू है तुम्हारे लिए,कलम भी डगमगा रही है,लेकिन भगते भाई मै मजबूर हूँ तुम्हारे सच्चे सिधान्तो की लाश अब और नहीं ढो सकता,मेरे लिए खुद की रोज़ रोज़ बेइजती करवाना मुश्किल है,भाई शेर को कुत्तो ने चारो तरफ से घेर रखा है,आखिर कब तक वो अकेला इनसे लडेगा
    जय क्रांति जय हिंद
    हेमू सिंह

    ReplyDelete
  45. Hemu ji yaha tak aane apni baat rakhne ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  46. पहली बार ब्लॉग पर आना हुआ पर अच्छा लिखते हैं आप. शानदार अभिव्यक्ति..बधाई. कभी 'शब्द सृजन की ओर' भी आयें.

    ReplyDelete
  47. K K Yadava ji bus aapka sneh hai hamare saath so kuch padh leta hu aur kuch likh leta hu .......shukriya

    ReplyDelete
  48. first visit aur itna sundar lekhan.....ab to baar-baar ana padega.

    ReplyDelete
  49. bouth he aacha post hai aapka dear nice words

    visit plz friends...
    Download Free Music
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  50. V!Vs ji bahut bahut shukriya yaha tal aane ke liye aur itna pyara comment dene k liye .........

    ReplyDelete
  51. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  52. Sawai singh ji gher ki dehllej pe kadam rakhne k liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  53. Rajnish Ji shukriya .........der se hi sahi aap aaye to .mai to isi aas me kab se derwaje ki taref ektak dekh raha tha ........khair intejar ka phal meetha hua

    ReplyDelete
  54. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    ReplyDelete
  55. Dinesh ji sabse pahle to hausla afjai ke lioye bahut bahut shukriya......aur hum aapke gher ki dehleej pe jarur aayenge...bus swagat accha hona chahiye

    ReplyDelete
  56. होली के पावन रंगमय पर्व पर आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक शुभ कामनाएँ.
    मेरी पोस्ट 'ऐसी वाणी बोलिए'पर आपका इन्तजार है.

    ReplyDelete
  57. होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  58. रंग के त्यौहार में
    सभी रंगों की हो भरमार
    ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
    यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

    आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

    होली की खुब सारी शुभकामनाये........

    सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  59. Rakesh Kumar @
    Rajendra Swarnkar @
    Sawai SIingh Rajpurohit @
    aap sabhi ko bahut bahut badhai aur hardik shubkamnaye,
    Holi hai*******

    ReplyDelete
  60. भाई जी अब नयी पोस्ट लिखो आपकी पोस्ट का इन्तजार है ...!

    ReplyDelete
  61. neh se bhari ek sunder rachna, man ko bhayi.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  62. blogtaknik ji blog tak aane le liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  63. : केवल राम : ji jald hi aapko dusri post bhi mil jayegi.aaiyega jarur jachne aur parakhne ke liye........plzzzzz

    ReplyDelete
  64. prritiy---------sneh ji thanx a lot for nice comments

    ReplyDelete
  65. कल 28/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  66. बहुत सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete