Followers

Labels

Thursday, September 23, 2010

"खेवैया"





खुश नसीब है हम


जो हमकों वो ,


"साहिल" पे छोड़ गए


ले जाते बीच भवर में


बन के मेरे "खेवैया"


तो हम कहाँ जाते,


हम तो पथिक है,


कच्ची गलियों के,


बीच भवर में कैसे टिक पाते,


ये अहसान है उनका,


जो साहिल पे छोड़ गए "

5 comments:

  1. बहुत अच्छी। आगे भी ऐसे ही लिखते रहिए...
    http://veenakesur.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत ब्लॉग मिल गया, ढूँढने निकले थे। अब तो आते जाते रहेंगे।

    ReplyDelete
  3. इस शानदार रचना पर बधाई ....जैसे मैंने पहले भी कहा है आप कुछ उचाईयों को छूती हैं यही मुझे पसंद आता है ....बहुत सुन्दर भाव भर दिए हैं आपने ....और तस्वीर के चयन में आपकी पसंद की दाद देता हूँ |

    फुर्सत मिले तो 'आदत.. मुस्कुराने की' पर आकर नयी पोस्ट ज़रूर पढ़े .........धन्यवाद |

    ReplyDelete
  4. Veena ji shukriya aur mai aage aapki baato ka dhyan rakhte hue aur acha likhne ki kosis karunga.............

    ReplyDelete
  5. Sanjay ji tahe dil se shukriya .............

    ReplyDelete