Followers

There was an error in this gadget

Labels

Saturday, October 24, 2009

वो मेरी समझ

वो साहिल, साहिल न था जिन्हें हम साहिल समझे ,
वो भवर से भी ज्यादा गहरा था ,

वो कली, कली न थी जिन्हें हम कली समझे ,
वो कांटे से भी कटीली थी ,

वो कश्ती कश्ती न थी जिन्हें हम कश्ती समझे ,
वो कश्ती कागज की कश्ती से भी नाजुक निकली ,

वो सफ़र,सफ़र न था जिस पे हम हमसफ़र खोजने निकले ,
वो सफ़र मेरा अंतिम सफ़र निकला ,

ऐसे ही लोग आते रहे !!!!!!!!! मिलते रहे !!!!!! और जाते रहे !!!!
ऐसे ही हर बार मुझे समझाते रहे ,

मै समझता रहा उन्हें कुछ और
वो कुछ और ही समझाते रहे ,,,,,,,,,,

2 comments:

  1. thanx brother;
    samajhta raha....samjhate rahe...acchi lagin aakhri panktiyan.

    ReplyDelete
  2. bahut bahut thanx aapka ....maine to kabhi socha hi na tha aap bhi kabhi mere blog pe visit karengi....aur aapka comments to mere liye sapne jaisa hai ....thanx didi ji ...

    ReplyDelete