Followers

There was an error in this gadget

Labels

Saturday, August 6, 2011

ये अधूरी जिंदगी



मेरी अधूरी जिंदगी  
जो मेरे मन की टूटी हुई खिड़कियों  के
सीखचों से बाहर झाकती, 
आजाद हो जाने को
कही दूर चले जाने को , 
जिसे कैद कर रखा हैं  
मैंने अपने ही अंदर 
घुप्प अंधेरो में,  
जहाँ घुट रही है 
अंदर ही अंदर ,
बेहद निरास, बेहद हतास 
मेरी जिंदगी,

मै करवटे तो बदल  रहा हूँ 
पर खुद की  
जद्दोजहद की,  
जो खुद अपने आप से हैं
जहा लड़ रही है
मेरी जिंदगी ; 
कभी न बदलने वाले उसूलो से 

यहाँ बर्फीली तेज हवाये 
जला रही है मुझे 
दावानल के जैसे, 
जबकी  मेरी जिंदगी 
झांक रही है, छटपटा रही है
मेरे मन की टूटी हुई खिडकियों के सीखचों से बाहर
कही दूर जाने के लिए, 
मेरी जिंदगी 


जी रहा हूँ फिर भी 
मै ये अधूरी जिंदगी 

                               अमरेन्द्र ' अमर '

81 comments:

  1. जिन्दगी को लेकर आपने अपनी मनःस्थिति का अच्छा विश्लेषण प्रस्तुत किया है इस रचना में!

    ReplyDelete
  2. ज़िन्दगी की जद्दोजहद में ज़िन्दगी वाक़ई आधी-अधूरी -सी ही लगती है.
    बढ़िया लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  3. waah bahut khubsurti ke
    sath apne jazbaton ko pesh
    kiya hai bahut hi accha
    likha hai
    zindagi ka ye adhurapan
    aapke ye shabd poore kar dainge :)

    mere blog par bhi apne vichar rakhiyega kabhi..thx link mail karne k liye :)

    ReplyDelete
  4. bahut khubsurati se bhavo ko darshaya hai aapne

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन अंदाज़ और बेहतरीन अलफ़ाज़

    ReplyDelete
  6. bahut badiyaa rachanaa /badhaai aapko/

    ReplyDelete
  7. kuch waqt ne to khuch gum ne li aise karwate ,hum kise le jaye or kise choad jaye kar na sake kuch bhi batai ,,,,,,...bhut ache bhadayi

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर....यही जद्दोज़हद ज़िन्दगी है.....

    ReplyDelete
  9. गहरी संवेदना . जिन्दगी की जद्दोजहद .

    ReplyDelete
  10. सच है जिंदगी लडती रहती है कभी न बदलने वाली उसूलों से... भावपूर्ण रचना ... मित्रता दिवस की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  11. bahut sundar rachna ..jindagi adhuri hi rahti hai kuchh maynon me

    ReplyDelete
  12. बहुत खुबसूरत अंदाज में ज़िंदगी की बात की है बधाई .....

    ReplyDelete
  13. bahut hi khoobsoorat rachna... wakai aaj jeene ki jaddojahad mei ham zidangi bhool gaye hain...

    ReplyDelete
  14. भाई ज़िन्दगी इतनी बुरी भी नहीं है...बड़े भाग मानुस तन पावा...जितनी है...जैसी है...जी लो...अधूरी ज़िन्दगी तो पूरा जी लो...

    ReplyDelete
  15. आह! गहरा अहसास
    खूबसूरत रचना.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  16. Adraniya Shastri ji bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  17. Kuwar Ji hausla afjai ke liye bahut bahut shukriya .....

    ReplyDelete
  18. हैप्पी फ़्रेंडशिप डे।

    Nice post .

    हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।
    बेहतर है कि ब्लॉगर्स मीट ब्लॉग पर आयोजित हुआ करे ताकि सारी दुनिया के कोने कोने से ब्लॉगर्स एक मंच पर जमा हो सकें और विश्व को सही दिशा देने के लिए अपने विचार आपस में साझा कर सकें। इसमें बिना किसी भेदभाव के हरेक आय और हरेक आयु के ब्लॉगर्स सम्मानपूर्वक शामिल हो सकते हैं। ब्लॉग पर आयोजित होने वाली मीट में वे ब्लॉगर्स भी आ सकती हैं / आ सकते हैं जो कि किसी वजह से अजनबियों से रू ब रू नहीं होना चाहते।

    ReplyDelete
  19. akshay man ji yaha tak aane aur apne sunder comments se rachna ko nawajne ke liye.bahut bahut aabhar..........

    ReplyDelete
  20. ana ji shukriyan yaha tak aane aur rachna ka maan badhane ke liye

    ReplyDelete
  21. Massom sahab aapka bahut bahut shukriya .aise hi aap apna sneh banaye rakhen ..........

    ReplyDelete
  22. Prerna ji aabhar.........aise hi aap yaha aaker hamari shiba me char chand lagate rahiyega

    ReplyDelete
  23. bahut bahut khub....ek ek shabd bolta huya pratit huya

    ReplyDelete
  24. Dr. Monika Sharma ji aapke sunder comments ne yaha pe ek nayi abha jaga di hai ..............aabhar

    ReplyDelete
  25. Dr Jamal Sahab Shukriya yaha tak aaner aur apne sunder comments dene ke liye

    ReplyDelete
  26. D. P Mishra Sahab Bahut bahut Shukriya

    ReplyDelete
  27. जीवन की सच्चाई व्यक्त करती हुई सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  28. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है! अनुपम प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  29. Rekha ji hausla afjai ke liye bahut bahut aabhar ............aise hi aap apna sneh banaye rakhe.............

    ReplyDelete
  30. Sandhya ji yaha tak aane ke liye bahut bahut shukriya......................

    ReplyDelete
  31. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  32. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  33. निरास और हतास की वर्तनी बदल कर निराश, हताश करने पर विचार करें.

    ReplyDelete
  34. Rekha ji rachna ka maan rakhne ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  35. Sandhya Sharma ji nahut bahut shukriya ............

    ReplyDelete
  36. Suman'meet' ji aap yaha tak aur meri hausla fajai ki mai aapka sadaive abhari hun ...............

    ReplyDelete
  37. Sunil kumar ji rachna ko uske makam tak pahuchane ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  38. Pooja Ji aapke aane se mere gher("blog") me raunak aa gayi ...........aise hi aap apna sneh banaye rakhe ..................aabhar

    ReplyDelete
  39. Sushma ji shukriya aapne yaha aaker mera maan rakha ..................aabhar**

    ReplyDelete
  40. Vanbhatt ji bahut bahut shukriya ..............aapke shub vachano se meri rachna kratagya ho gyi ......aabhar

    ReplyDelete
  41. Rakesh kumar ji bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  42. Dr Anwar Jamal Ji bahut bahut aabhar aapka ki aapne apne busy schdeule se samay nikal ker yaha pe apne shub kadam rakeh..............aabhar

    ReplyDelete
  43. udas man ke bhav prakat karti ..sunder rachna..
    shubhkamnayen..

    ReplyDelete
  44. manah sthiti ka sajiv chitran ,,aapke blog pe pehli baar aana hua..badhayee aur apne blog pe aane ke nimantran ke sath

    ReplyDelete
  45. सुन्दर अभिव्यक्ति....
    सादर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  46. Anupama Ji aapke shub vachno ke liye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  47. Dr. Ashutosh Misra Ji shukriya , umeed krta hun aise hi aan jana bana rahega....aabhar

    ReplyDelete
  48. Sagar Sahab aapka naam bahut hi accha hai........aapke shub kadam yaha tak apden iske liye mai aapka bahut bahut aabhari hun

    ReplyDelete
  49. jo khud apne aap se jaha lad rahi hai meri jindgi...... bahot khubsurat rachna

    ReplyDelete
  50. Sm ji bahut bahut shukriya aapke yaha aaane aur rachnaka maan rakhen ke liye

    ReplyDelete
  51. जीवन तो जीना पढता है चाहे अधूरा हो या पूरा ... ये भी तो एक धर्म है निभाने को .... अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete
  52. Adrniya Naswa Sahab Bikul Sahi kaha hai aapne .aabhar

    ReplyDelete
  53. zindgi ke anvarat sangharsh se joojhte rahne ka bhavpoorn shabdankan.

    ReplyDelete
  54. Adarniya Shashi Pandey Ji Pranam ....aapke shub vachno se yaha pr raunak aa gayi

    ReplyDelete
  55. Surendra singh ji bahut bahut shukriya mere sanghersh ke dino me saath dene ke liye

    ReplyDelete
  56. बहुत खूब .....

    क्षणिकायें लिखते हों तो भेजिए 'सरस्वती-सुमन' पत्रिका के लिए .....

    ReplyDelete
  57. adarniya Heer Ji Shukriya .........jo aapne is layak sanjha ..........prayas karunga ki kuch agr aacha bane to aapki cherno me rakh sakun......aabhar

    ReplyDelete
  58. good expression. jina hi pdta he apnon ke liye.

    ReplyDelete
  59. सुंदर रचना।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  60. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    ReplyDelete
  61. Mahendra Verma Ji , Nisha Maharana Ji , & Amit Ji bahut bahut shukriya yaha tak aane ke liye

    ReplyDelete
  62. वाह क्या बात है ...बहुत भावपूर्ण रचना.
    कभी समय मिले तो http://akashsingh307.blogspot.com ब्लॉग पर भी अपने एक नज़र डालें .फोलोवर बनकर उत्सावर्धन करें .. धन्यवाद .

    ReplyDelete